• २०८० फागुन २१ सोमबार

गजल

किसानक फाटल धोती

स्तब्ध मन

भरदुतिया के नोत

अंतिम इच्छा

गलतीके सजा

गलतीके सजा