• २०७९ असोज १९ बुधबार

इन्तिकाम

ध्रुव जोशी

ध्रुव जोशी

इन्तिकाम के सरार को हवा दोगे
ताउम्र रंजिशें झेलते रहोगे ।

अदावत से गर तौबा करना हो तो
दुश्मन को माफ करके देखो ।

नफरत पनपती है इन्तिकाम के गलियों में
रुसवाई हीं मिलेगी उस गली से गुजरने पे ।

ऐसा कभी न हुआ मगर मैं तन्हा रहा
तेरे बज्म–ए–रक्स में न आने का सबब था ।

इन्तिकाम के चर्चे दूर तक होते थे, पर
बस्तियाँ जलने की खबर तक न होती तब ।

दिल से धूवां भी निकले आज किसी के
चर्चे सुर्खियों में आजाते हैं बस्तियों में ।

इन्तिकाम का गरुर छिन लेता है गोयाई आप से
मखसूस होने के लिए सायदार शजर होना जरुरी है ।

तन्हाई ओढे दश्ते बिरानियों में भटकते रहोगे
कोई चारागर खलिश तुम्हारा समझ न पाएगा ।

निजाम–ए–हयात होते हैं अलग सबके अपने
घरौंदा टिकता नहीं बने इन्तकाम के बुनियाद में ।

आफरीं अगर दुश्मनी पर मिट्टी डालोगे
चश्म–ए–तर तुम्हारी जुवां बनकर बोलेगी ।

तारीख दुश्मनी के अफसानों से लबरेज है
मोहब्बत सकुं देता दुश्मनी वरपा कर नहीं सकता ।

इन्तिकाम के जनून में मरना मंजूर नहीं मुझे
पाक दामन ले गुजर जाएं तो सिला मिल गया मुझे ।


(जोशी पेशा से कृषि वैज्ञानिक हैँ, वे पत्रकारिता के साथसाथ साहित्य सिर्जना भी करते हैं ।)
[email protected]


झूलाझुलेँ हे सखी

आउन बाँकी नै छ