• २०७९ असोज १९ बुधबार

पंखुड़ी एक गुलाब की

निशा नंदिनी भारतीय

निशा नंदिनी भारतीय

पंखुड़ी गुलाब की
झूल रही डाल से ।
जुड़ने को मचल रही
अपने परिवार से ।

ढुलका दिया हवा ने
पत्तों के आसपास ।
श्वास उसकी चल रही
मजबूत थी उसकी पकड़ ।

नाज़ुक कोमल सी पंखुड़ी
ऊर्जित थीं उसकी शिराएं ।
पत्र पर पड़ी/पड़ी
प्राण रस ले रही ।

थी परीक्षा की घड़ी
धैर्य संयम संग खड़ी ।
समय बहुत ही कठिन
चल रहा था दुर्दिन ।

समीर था वहां खड़ा
मंद-मंद मुस्कुरा रहा ।
धकेलने को उसे
पुरजोर लगा रहा ।

पंखुड़ी निडर थी
सांस थामे पड़ी थी ।
नयन कुछ बड़े थे
अश्रु सूख चुके थे ।

नेत्र कुछ कड़े हुए
धरा पर गड़े हुए ।
पाने को गोद माँ की
आतुर हो रहे बड़े ।

जोर की हवा चली
पंखुड़ी उड़ चली ।
बलिदान कर तन-मन
प्राण अपने दे चली ।

खुशी का पल मिला
जीने का हल मिला ।
मिट्टी में मिल गई
उर्वरा कर गई ।


(तीनसुकिया, असम, भारत)
[email protected]