• २०८१ श्रावाण १ मङ्गलबार

अश्क न दिया करो

नीता गुरूंग भाटिया

नीता गुरूंग भाटिया

जिस दर्द का ईलाज तुम कर न सको
वह दर्द तुम किसीको दिया न करो ।

जिसने पिया हो जाम हककंसी का भर भर के
उसे तुम पीने को भर के अश्क दिया न करो ।

जिसने हकिकत में जीना सिखा हो,
उसे तुम सपनों में उलझाया न करो ।

वह तो मस्त है अपने गमें जहाकक में क्या कहुकक,
बेवजह झूठे अरमां दिल में तुम जगाया न करो ।

कोई खेल नहीं है दिल की लगी, तुम यह जानलो,
गर प्यार सच्चा हो तो,उसे तुम आजमाया न करो ।

जिस दर्द का ईलाज तुम कर न सको
वह दर्द तुम किसीको दिया न करो ।


नीता गुरूंग भाटिया, गुवाहाटी असम भारत ।
[email protected]