जीवन संघर्ष - Aksharang
  • २०७८ असोज १२ मङ्गलबार

जीवन संघर्ष

विष्णु लाल कुमाल

विष्णु लाल कुमाल

हमें आनन्द से अब जीना है,
नहीं घुट-घुट के जहर पीना है ।

भले ये जिन्दगी अब थोडी है,
नहीं शिकवा ना कोई रोना है ।

सोच थी जिन्दगी इक नदिया है
खुशी आनन्द साथ बहना है ।।

नहीं कटते हैं कभी गम के क्षण,
बस यही सोच के ही सोना है ।

गजब जिन्दगी भर डटे ही रहो,
जीवन भर लडते ही बिताना है ।

होती गति साँप और छछुंदर की,
गुड भरी हँशिया को भी खाना है ।

विष्णु जीवन प्रयोग और तपस्या है,
होगे सफल डिग्री अन्त में ही पाना है ।


(अवधी, हिन्दी, नेपाली साहित्यकार, वरिष्ठ अवधी लोक चित्रकार ,नेपालगंज- ५ बाँके लुम्बिनी प्रदेश, नेपाल )
kumalbishnu15@gmail.com