• २०८० असोज १० बुधबार

कविता मुस्कुराती है

शैलेंद्र साहू

शैलेंद्र साहू

किसी के कान में
फुसफुसा कर कहे गए शब्द हों
या अधूरी नींद की बुदबुदाहट
भीड़ में टहलती चुप्पियाँ हों
या दीवारों पर सिर पटकते अवसाद
कटे- फिटे
थके- हारे
ख़ून और मवाद में लिथड़े शब्द ही क्यूँ न हों
कविता सबको पनाह देती है
और अगर आख़िरी बार का रोना याद हो
तो ये दिन इतने भी बुरे नहीं
कह कर
कविता मुस्कुराती है ।


शैलेंद्र साहू, मुम्बई महाराष्ट्र