• २०८१ बैशाख ८ शनिवार

नयाँ वर्ष

सुषमा दीक्षित शुक्ला

सुषमा दीक्षित शुक्ला

दो हजार बाइस तुम आओ,
जग में नूतन खुशियां लाकर ।

परम पिता की सदा दुआ हो,
जग की सुंदर बगिया पर ।

दो खुशियों की शुभ सौगातें,
सुख के सुंदर दीप जलाकर ।

दो हजार बाइस तुम आओ,
जग में नूतन खुशियां लाकर ।

खिलते रहें गुलाब सदा ही,
साँसों की अगणित शाखों पर ।

सुंदर अभिलाषाएं पूरी हों,
नित नवल वर्ष की राहों पर ।

दो हजार बाइस तुम आओ
जग में नूतन खुशियां लाकर ।

परमपिता की सदा दुआ हो
जग की सुंदर बगिया पर ।

आँधी बनकर ख़ुश्बू बिखरे,
भारत माता के दामन पर ।

सपनों की नइया तट पहुँचे,
नित नवल वर्ष के आँगन पर ।

दो हजार बाइस तुम आओ,
जग में नूतन खुशियां लाकर ।

परमपिता की सदा दुआ हो,
उनकी सुंदर बगिया पर ।


सुषमा दीक्षित शुक्ला, लखनऊ, उ०प्र०– 226017
E-mail- [email protected]