बस यही दोष रहा - Aksharang
  • २०७८ मंसिर १३ सोमबार

बस यही दोष रहा

नीता गुरूँग

नीता गुरूँग

चलता रहा बेतहाशा
उस डगर की ओर..
जो मेरी मंज़िल न थी
बस यही दोष रहा

काँटो से भरे दामनको भी
हँसके गले लगाया
टटोलने लगे कोमल सी पंखुडिया
बस यही दोष रहा

ज़िन्दगी जीनेका सलिका न आया
बस यही दोष रहा
गम- एक ज़िन्दगीका
अश्क छुपाना न आया
यही दोष रहा

किसी के लिए खुशी तो
किसी के लिए रंज बनकर
रंजिसे जहां मेंखुदको सम्भाला
बस यही दोष रहा ।


नीता गुरूँग, गुवाहटी, असम, भारत
neetagurung59@gmail.com