भोजपुरी गजल - Aksharang
  • २०७८ कातिर्क १० बुधबार

भोजपुरी गजल

अनीता शाह

अनीता शाह

लूट जाला सब खजाना, दोस्ती के वार से,
दुशमनी के बात कइसन, दोस्त मरलख प्यार से ।

मतलबी बनके सटे ला, फायदा से नाम ली,
काम होते काट देवे, नेह नाता आर से ।

जब समय आइल मदद के, खूब चालाकी भइल,
मोड़ लिहले मुँह छुपा के, लौटनी दूआर से ।

माथ धरके रो रहल बा, साँच बतिया जे कही,
मंथरा के राज बाटे, के बची मझधार से ।

हूक दसरथ के भइल आ, प्राण छूटल व्यर्थ ही,
दूर भइले फर्ज खातिर, राम जी घरबार से ।

लोभ लालच जे समाइल,घर भसक जाई सुनी
सोच के नीमन बनाई, घर बची तकरार से ।

बर्ष बीतल त्याग करके, दिन बितल संन्यास में,
नेहिया भाई भरत के, मोह ना दरबार से ।

………………………………………………………………….
वीरगंज, नेपाल
anitashah9297@gmail.com