दीया दीवाली का - Aksharang
  • २०७७ चैत २९ आइतबार

दीया दीवाली का

इन्दु तोदी

इन्दु तोदी

अन्तस राग द्वेष ईष्र्या का धब्बा कोजा पड़्या रह्या है
ज्यूं का त्यूं,
बारणै निर्जीव वस्तु नै खूब चमकावण लाग्या !
माँ, बेटी, लुगाई, बहन जीवंती जागती गृह लिक्ष्मीयां का
आत्म सम्मान नै धर दर किनारै आ किसी लिक्ष्मी नै थे फेर्यूं
मनावण लाग्या !
विदीर्ण कर भाई को मन कदै मद में हो चूर !
फेर्यूं दर्जी कनै कुण सा नुवा कपड़ा सिलावावण लाग्या !
मिनखपणो सांस तोड़ रह्यो है पग पग पर होकर घायल !
फेर्यूं बो कुण है जि नै भर बाह थे गले लगावण लाग्या !
हर किसी नै निचो दिखावण की होडबाजी सी चाल रही,
फेर्यूं या किस की निजरां में उठनै की कोशिश करनै थे लाग्या !
प्रेम चटाइ बैठ कदै दुःख सुख को पुछ्यो कोनी पाड़ोसी नै
फेर्यूं कुण स स्नेह,भाईचारै की दुहाई थे देवण लाग्या !
खून पसीना सिंचतो गरीब,
पण मुकककण नै है मोहताज
फेर्यूं यह किस फरज चुकावनै को किस्सो जग जाहिर थे करनै लाग्या !
त्यौंहारां की ओट में हो रह्यो वैभवता को हर गठै खूब प्रदर्शन,
फेर्यूं यह किस श्रद्धा भक्ति सूं भगवान नै थे रिझावण लाग्या !
बो बुजुर्ग दीयो अपणैपन का
स्पर्श कै तेल बिना
है बुझ सो गयो
फेर्यूं घर कै कुणै कुणै में कुण सी रोशनी थे सजावण लाग्या !
आओ ई दीवाली कुछ इसा दीया लेकर आवां !
नेह सूं नेह की अमर लौ जलावां !!
तेज म जिकै जकक जावै सब दाग
और रुह तक जगमग कर झिलमिलावण लागै !!!


(कवयित्री, स्वतंत्र लेखन, अध्यक्ष, नेपाल अग्रवाल महिला मंच, धरान, नेपाल)
todiindu@gmail.com