दोहे मे व्यंग्य - Aksharang
  • २०७७ असार २४ बुधबार

दोहे मे व्यंग्य

अनन्त आलोक

अनन्त आलोक

 

कलयुग तेरे गर्भ से, प्रकट सहस्रों राम ।
स्वयं सिहांसन जा चढ़े, पाँव पखारे आम ।।

तम्बाकू से घर भरे, नाना रोग हजार ।
अब पछताय क्या व्यसनी, खड़ा मौत के द्वार ।।

पान मसाला चाब कर, पीक थूकते लाल ।
भीतर( भीतर खाय जां, मुख में बैठा काल ।।

वर्जित है पर कर रहा, हो कर मद में चूर ।
अंतर छूमंतर करे, बीड़ी जरदा सूर ।।

तन गंगा में धो लिया, धुला न मन का पाप ।
मन मंदिर को धो सखा, हो तन निर्मल आप ।।

ईश्वर तेरे नाम से, लगा रहे हैं भोग ।
पेट बढ़ाये जा रहे, खाते पीते लोग ।।

पत्थर की शिवलिंग पर, चढ़ा रहा है क्षीर ।
अम्मा भूखी सो गई, बिस्तर दरिया तीर ।।

माता की कर वंदना, कर माँ का जयगान ।
कोई माता तो जाने, आज कृष्ण भवगान ।।

मम्मी मम्मी सुन जरा, सुन ले मेरी बात ।
वट्सएप पर रात दिन, किस से होती बात ।।

गीले बिस्तर पर पड़ी, मम्मी सारी रात ।
वरना सोने दे कहाँ, ये बच्चे की जात ।।

बच्चा सोये चैन से, लगा दिया है पेड ।
मम्मी को फुर्सत नहीं, सुला रही है मेड ।।

ममता की छाया नहीं, मिलती मीलों मील ।
माँ बच्चे के बीच में, सूख रही ना गील ।।

……………………………………………..
साहित्य लोक, बायरी, डा‘ ददाहू जिला सिरमौर हिमाचल प्रदेश
anantalok1@gmail.com